भारतीय कोच रवि शास्री ने कहा, लॉक डाउन के बाद BCCI को सबसे पहले आईपीएल पर ध्यान देना चाहिए

भारतीय कोच रवि शास्री ने कहा, लॉक डाउन के बाद BCCI को सबसे पहले आईपीएल पर ध्यान देना चाहिए

भारतीय टीम के प्रमुख कोच रवि शास्त्री सभी खिलाड़ी भी कोरोना की वजह से परेशान है और सबके बयान से लगता है कि सभी चाहते है जल्द ही क्रिकेट शुरू हो।


कोच रवि शात्री का मानना है कि असली चुनौती दुबारा खेल शुरू होने पर होगी। लंबे समय से अभ्यास से दूर रहने के बाद मैदान पर वापसी असली चैलेंज होगा। शात्री चाहते है जब दुबारा मैच शुरू हो तो सबसे आईपीएल जैसे पहले घरेलू सीरीज को वरीयता देने की आवश्यकता है।

एक न्यूज़ चैनल ने शास्त्री के हवाले से लिखा, “कितना भी बड़ा खिलाड़ी क्यो न हो लंबे समय तक अभ्यास से दूर रहने के बाद मैदान पर जमना एक चुनौती होती है। इससे कोई फर्क नही पड़ता कि आप कितने अच्छे खिलाड़ी हो बिना अभ्यास के पैर जमाने में समय लगता है। ये केवल क्रिकेट के लिए नही बल्कि सभी खेलो के लिए लागू होता है।
भारतीय कोच चाहते है कि लॉक डाउन के बाद जब भी क्रिकेट शुरू हो तो सभी देश पहले घरेलू क्रिकेट को बरियता दे। पहले प्रथम श्रेणी के क्रिकेट को मैदान पर लाये फिर अंतरास्ट्रीय टूनामेंट के बारे में विचार किया जाय।

उन्होंने कहा, “दूसरी चीज- अगर भारत को विश्व कप की मेजबानी और बाईलैटरल सीरीज के बीच में से चुनना हो तो जाहिर तौर पर हम बाईलैटरल सीरीज चुनेंगे। 15 टीमों को एक जगह लाने से बेहतर है कि एक टीम को लाकर पूरी बाईलैटरल सीरीज एक या दो मैदानों में खेली जाय।
इसमे कोई शक नही की लॉक डाउन की वजह से भारतीय बोर्ड को सबसे ज्यादा नुकसान आईपीएल न होने की वजह से हुआ है। इसलिए लॉक डाउन खुलते ही सबसे पहले आईपीएल को प्राथमिकता मिलनी चाहिए।
ये एक ऐसा लीग है जिसको सिर्फ एक या दो शहरों में भी खेला जा सकता है और इसे मैनेज करने भी आसान है।
उन्होंने आगे कहा, “बाईलैटरल सीरीज के साथ भी यही है- कुछ खास मैदानों पर खेलना और एक विदेशी टीम को मैनेज करना 15-16 टीमों की मेजबानी करने से आसान है। आईसीसी को इस पर विचार करना होगा।

Leave a Reply