रिटायरमेंट के बाद युवराज सिंह का धोनी और रैना को लेकर बड़ा खुलासा

युवराज सिंहदिग्गज यभारतीय खिलाड़ी युवराज सिंह ने एक इंटरव्यू के दौरान कुछ खास बातों को उजागर किया है। युवराज सिंह ने सुरेश रैना को धोनी का सबसे पसंदीदा खिलाड़ी बताया। युवराज के अनुसार रैना को धोनी का पूरा समर्थन मिला था।
युवराज ने बताया कि 2011 विश्वकप के दौरान धोनी को एकादश के लिए टीम तैयार करना था और मीडिल ऑर्डर के लिए उनके पास यूसुफ पठान और रैना के रूप में दो ऑप्शन था, लेकिन फॉर्म में न होने के बावजूद भी रैना का सलेक्शन हुआ जबकि यूसुफ अच्छा प्रदर्शन कर रहे थे युवराज इसका कारण रैना के पास धोनी सपोर्ट मानते है। और अपने सलेक्शन पर युवराज ने कहा कि उस समय टीम के पास कोई बाए हाथ का स्पिनर नहीं था और मै अच्छा प्रदर्शन कर रहा था।
पसंदीदा कप्तान गांगुली
युवराज सिंह ने अपने करियर के बुलंदियों का श्रेय पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली को दिया है उस समय हम युवा थे और दादा ने गलतियों से सीखने का भरपूर मौका दिया। युवराज ने दादा को युवा प्रतिभा को निखारने को लेकर पसंदीदा कप्तान बताया।
युवराज के 6 छक्के का राज
पहले टी20 विश्व कप में युवराज सिंह ने इंग्लैंड के खिलाफ स्ट्रुआर्ड ब्रॉड की गेद पर लगातार 6 छक्के लगाकर एक नया इतिहास बना दिया था। लगातार 6 छक्के देखने के बाद फील्ड अंपायर ने युवराज के बल्ले को चेक किया था युवी बताते हैं कि ऑस्ट्रेलियाई कोच उस समय मेरे पास आए और पूछा कि क्या बल्ले में फाइबर लगा है और क्या यह वैध है। मैच रेफरी ने इसे चेक किया है? यहां तक कि एडम गिलक्रिस्ट ने भी उनसे पूछा था कि बल्ले कहां से बनवाते हो। ऐसे में मैच रेफरी ने मेरे बल्ले की जांच की। ईमानदारी से वह बल्ला और 2011 विश्व कप में मैं जिस बल्ले से खेला, वे मेरे लिए काफी खास रहे।
फ्लिंटॉफ से विवाद
युवी ने 2007 टी20 वर्ल्ड के दौरान इंग्लैंड के कप्तान फ्लिंटॉफ से हुए विवाद पर भी खुलासा करते हुए बताया कि उन्होंने ब्रॉड के ओवर में लगातार 6 छक्के जड़ने से पहले ही उनके और फ्लिंटॉफ के बीच कुछ कहासुनी हो गया था।
युवराज ने उस पल को याद करते हुए कहा कि उस समय शुरुआत फ्लिंटॉफ की तरफ से हुए था। मैंने फ्लिंटॉफ की गेद पर लगातार दो चौके लगा दिए थे लेकिन उनसे कहा शॉट अच्छा नहीं है। इसके बाद हम दोनों में बहस शुरू हुई और उसने कहा बाहर मिल गला काट दूंगा। इस पर मैंने जवाब दिया कि बाहर बाद की बात है, पहले यह बल्ला देख कहां जाएगा।’ इसके बाद अगले ही ओवर में युवराज ने स्टुअर्ट ब्रॉड के ओवर पर तूफानी बल्लेबाजी करते हुए लगातार छह छक्के जड़ दिए। उस मैच में युवराज ने महज 12 गेंद पर अर्धशतक बना दिया था।

Leave a Reply