भारतीय टीम का ऑस्ट्रेलिया दौरा भारत ऑस्ट्रेलिया पहुंचने पर क्वारंटाइन अवधि से गुजरने के लिए तैयार: BCCI

कोरोना वायरस महामारी से हालात बिगड़ने की वजह से क्रिकेटिंग कैलेंडर तहस-नहस हो गया है। क्रिकेट की शुरुआत कब होगी, इस पर साफ और सटीक कहना जल्दबाजी होगी।

हालांकि, कुछ देश ऐसे हैं जहां आने वाले कुछ समय में क्रिकेट समेत अन्य खेलों की शुरुआत हो सकती है, क्योंकि ऑस्ट्रेलिया जैसे देश में कोविड 19 के हालात सामान्य होते जा रहे हैं। इसी बीच बीसीसीआइ के एक अधिकारी ने भारत के ऑस्ट्रेलिया दौरे को लेकर एक बड़ा बयान दिया है।

साल 2020 के आखिर में भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया का दौरा करना है, लेकिन अभी ये साफ नहीं है कि ये दौरा पूरा हो पाएगा या नहीं। वहीं, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी बीसीसीआइ के कोषाध्यक्ष अरुण धूमल ने कहा है कि भारत द्विपक्षीय सीरीज खेलने के लिए सभी सुरक्षा उपाय करने को तैयार है।

सिडनी मोर्निंग हेराल्ड को दिए इंटरव्यू में अरुण धूमल ने कहा है कि भारत ऑस्ट्रेलिया पहुंचने पर एक क्वारंटाइन अवधि से गुजरने को तैयार है। उन्होंने कहा है, “कोई विकल्प नहीं है – हर किसी को ऐसा करना होगा। आप क्रिकेट को फिर से शुरू करना चाहेंगे।”

धूमल ने कहा है, “दो सप्ताह का लॉकडाउन लंबा नहीं है। यह किसी भी खिलाड़ी के लिए आसान होगा, क्योंकि जब आप इतनी लंबी अवधि के लिए क्वारंटाइन में होते हैं, तो दूसरे देश में जाकर दो सप्ताह का लॉकडाउन करना एक अच्छी बात होगी।

हमें यह देखना होगा कि इस लॉकडाउन के मानदंड क्या हैं।” वहीं, क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने 4 मैचों की बजाय 5 मैचों की टेस्ट सीरीज को कराने का प्रस्ताव रखा है। इस विचार पर भी अरुण धूमल ने अपना बयान दिया है।

बीसीसीआइ अधिकारी अरुण धूमल ने इस विचार को खारिज नहीं किया है और उन्होंने संकेत दिया कि अधिक सीमित क्रिकेट खेलना बेहतर होगा, क्योंकि इससे अधिक आय हो सकती है।

उन्होंने कहा है, “एक बार जब हमें यकीन हो जाएगा कि जब क्रिकेट फिर से शुरू होगा, तभी हम उस पर अंतिम फैसला कर पाएंगे।” धूमल ने ये भी कहा है कि इस साल आइपीएल हो पाएगा इसकी भी गारंटी नहीं है।

उन्होंने कहा है, “इसकी चर्चा (पांच टेस्ट की सीरीज) लॉकडाउन से पहले हुई। यदि कोई विंडो उपलब्ध है, तो यह बोर्ड पर निर्भर करेगा कि वे यह तय करें कि वे टेस्ट मैच खेलना चाहते हैं या दो वनडे या शायद दो टी20 इंटरनेशनल मैच खेलना चाहते हैं।

लॉकडाउन और लॉकडाउन के बाद होने वाली राजस्व हानि को देखते हुए वे चाहते हैं कि राजस्व इकट्ठा हो। सबसे अधिक रेवेन्यू एक टेस्ट मैच की तुलना में ODI या T20 मैच से होगी।”

Leave a Reply